या जग में कोई सुख न देखो

श्री हज़ूर स्वामी जी महाराज भी फरमाते है –

या जग में कोई सुख न देखो | गहो गुरु के बचननियाँ ||
दुःख के जाल फँसे सब मुरख | तू क्यों उन संग फंसननियाँ ||

स्वामी जी महाराज के भाव, जो मुझे समझ आता है – हमें लगता है कि इस दुनिया में लोग सुखी है लेकिन असलियत यह है कोई भी जग में सुखी है नहीं, सारे ही दुःख के जाल में फँसे जा रहे है, इसलिए आप समझते है हम क्यों उनके साथ फँसते जा रहे है, हमें तो हमें गुरु के वचनों पर चलना है।